icc cricket world cup 2019 chris gayle last inning in his last world cup for west indies


वर्ल्ड कप करियर की आखिरी पारी में फ्लॉप हुए क्रिस गेल, फैंस  ने झुकाया सजदे में सिर

क्रिस गेल ने खेली वर्ल्ड कप की आखिरी पारी (ap)

News18Hindi

Updated: July 4, 2019, 7:40 PM IST

कैरेबियाई बल्लेबाज़ क्रिस गेल का वर्ल्डकप सफर अब ख़त्म हो चुका है. 39 साल के गेल अब कितने टाइम तक क्रिकेट खेल पाएंगे, ये कहना मुश्किल है. ऐसे में गेल जब अपने क्रिकेट करियर के अंत पे हैं, आइए नज़र डालते हैं उनके वर्ल्डकप के अब तक के सफर पर क्रिस गेल ने अपना वनडे डेब्यू 1999 में किया था. उन्होंने अपना पहला वर्ल्डकप 2003 में खेला 2003 में हुई धीमी शुरुआत एक युवा गेल ने अपने वर्ल्डकप करियर की शुरुआत काफी धीमे तरीके से की.

2003 में खेला था पहला वर्ल्ड कप

वर्ल्डकप 2003 के पहले 4 मैचों में गेल ने सिर्फ 32 रन बनाए थे. ऐसे में उनके चयन और फॉर्म पर सवाल उठने लगे थे. लेकिन, जेल ने आखिरी दो मैचों में ज़बरदस्त पारियां खेलकर दुनिया को बता दिया कि वो वर्ल्ड क्रिकेट में बड़ा नाम बनने जा रहे हैं. वर्ल्डकप 2003 के 34वें मैच में गेल ने श्रीलंका के खिलाफ 55 रनों की पारी खेली. भले ही उन्होंने 76 गेंदें खेलकर ये रन बनाए पर इस पारी से उन्होंने अपनी खोई हुई फॉर्म वापस हासिल कर ली थी. वर्ल्डकप 2003 के वेस्ट इंडीज के आखिरी मैच में गेल ने केन्या के खिलाफ शतक लगा कर आलोचकों का मुंह बंद कर दिया और ये इशारा भी कर दिया कि आने वाले दिनों में वो वेस्ट इंडीज के सबसे सफल सलामी बल्लेबाज़ में से एक होने वाले हैं.

क्रिस गेल ने साल 2003 में खेला था पहला वर्ल्ड कप

क्रिस गेल ने साल 2003 में खेला था पहला वर्ल्ड कप

2007 में रही निरंतरता की कमी 2007 वर्ल्डकप के आते तक दुनिया को ये पता चल चुका था कि क्रिस गेल कौन हैं. गेल को अब खुद को एक महान खिलाड़ी के तौर पर स्थापित करना था. लेकिन, 2007 का वर्ल्डकप गेल के लिए कुछ ख़ास अच्छा नही रहा. गेल ने वर्ल्डकप 2007 में 9 मैच खेलकर महज़ 25.33 की खराब औसत से 228 रन बनाए. गेल इस वर्ल्डकप में एक भी सेंचुरी नही लगा पाए और उन्होंने सिर्फ एक हाफ सेंचुरी लगाई. 2011 वर्ल्डकप भी फीका रहा 2008 में आईपीएल आने के बाद से गेल दुनिया के सबसे खतरनाक बल्लेबाज़ों में गिने जाने लगे थे. वे पूरी दुनिया में लंबे लंबे छक्के मारने के लिए जाने जाते थे और गेंदबाज़ों में उनका अलग ही खौफ था. लेकिन, वर्ल्डकप शायद उनका टूर्नामेंट नही था. ये एक बार फिर 2011 में सामने आया जब विश्व के सबसे बड़े मंच पे गेल एक और बार फ्लॉप हो गए और अपने 5 मैचों में सिर्फ 34 के औसत से 170 रन ही बना पाए.

2015 में खेली यादगार पारी

वर्ल्डकप क्रिकेट में गेल एक और बार बड़ा नाम बनाने में विफल हो गए. 2015 के एक मैच में तोड़ दिए कई रिकॉर्ड्स. यूँ तो 2015 का वर्ल्डकप भी गेल के लिए काफी साधारण ही रहा लेकिन, क्रिस गेल को इस वर्ल्डकप की अपनी एक पारी ज़िंदगी भर याद रहेगी.. वजह भी लाज़मी है, वो पारी अब तक गेल के वनडे करियर की सबसे लंबी पारी थी. वर्ल्डकप 2015 के मैच नंबर 15 में गेल ने ज़िम्बाब्वे के खिलाफ 215 रनों की आतिशी पारी खेली और वर्ल्ड क्रिकेट में तूफ़ान ला दिया. गेल ने इस पारी के दौरान कुल 13 रिकॉर्ड्स तोड़े और रिकॉर्ड बुक्स में अपना नाम दर्ज करवा लिया. 2015 का वर्ल्डकप हमेशा के लिए गेल की उस पारी के कारण यादगार बन गया. 2019 में उम्र बढ़ने के बावजूद दिखाया शानदार खेल गेल ने 39 वर्ष की उम्र में भी 2019 वर्ल्डकप में गज़ब का प्रदर्शन किया.

वर्ल्डकप 2015 के मैच नंबर 15 में गेल ने ज़िम्बाब्वे के खिलाफ 215 रनों की आतिशी पारी खेली और वर्ल्ड क्रिकेट में तूफ़ान ला दिया

वर्ल्डकप 2015 के मैच नंबर 15 में गेल ने ज़िम्बाब्वे के खिलाफ 215 रनों की आतिशी पारी खेली और वर्ल्ड क्रिकेट में तूफ़ान ला दिया

वेस्टइंडीज के कामयाब बल्लेबाज

भले ही वेस्ट इंडीज वर्ल्डकप से बाहर हो गयी है, पर, गेल टीम की तरफ से सबसे ज़्यादा रन बनाने के मामले में निकोलस पूरन के बाद दुसरे नंबर पर हैं. 9 मैचों में गेल ने 30.25 की औसत से 242 रन बनाए है. इसमें 2 अर्धशतक भी शामिल हैं. ये दिखाता है कि इस उम्र में भी गेल कितने ख़तरनाक हैं और मानसिक रूप से कितने ज़्यादा मज़बूत हैं. अब भी खेलने पर अड़े उम्र के इस पड़ाव पर, जहां, ज़्यादातर क्रिकेटर संन्यास ले लेते हैं या संन्यास के करीब होते हैं, वहीं गेल ने एक इंटरव्यू में कहा कि जब तक संभव हो, वो तब तक खेलना चाहेंगे. ये दर्शाता है कि जेल अब भी टॉप फॉर्म में हैं और वो शारीरिक और मानसिक रूप से कितने मज़बूत और फिट हैं. उम्मीद है कि ‘गेल स्टॉर्म’ को देखने का मौका हम सबको मिलता रहे.





Source link

Recommended For You

About the Author: Vivek Jaiswal