Lionel Messi plays better with Barcelona in comparison to Argentina | बार्सिलोना को 34 खिताब दिलाने वाले मेसी अर्जेंटीना को एक ही बार चैम्पियन बना सके


  • कोपा अमेरिका कप-2019 के सेमीफाइनल में ब्राजील ने अर्जेंटीना को 2-0 से हराया
  • मेसी के रहते अर्जेंटीना 3 बार कोपा अमेरिका और 1 बार वर्ल्ड कप फाइनल खेला, सभी में हारा
  • बार्सिलोना की ओर से मेसी चार बार चैम्पियंस लीग फाइनल खेले, चारों बार बार्सिलोना जीता 

Dainik Bhaskar

Jul 04, 2019, 09:18 AM IST

रियो डी जेनेरियो. लियोनल मेसी एक बार फिर अपने देश को खिताब नहीं दिला पाए। बुधवार को कोपा अमेरिका कप-2019 के सेमीफाइनल में ब्राजील से हारकर अर्जेंटीना बाहर हो गई। अर्जेंटीना की इस हार के साथ ही एक बार फिर यह चर्चा जोरों पर है कि मेसी केवल अपने क्लब बार्सिलोना की ओर से अच्छा खेलते हैं, देश के लिए वो उतना अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते। दरअसल, 15 साल के अपने करियर में मेसी ने बार्सिलोना को 34 खिताब दिलाए। वहीं, अर्जेंटीना को वे महज 1 खिताबी जीत दिला सके। क्लब और देश की टीमों से खेलते हुए उनके प्रति मैच गोल करने और गोल में मदद करने के रेशियो में भी बड़ा अंतर है। बार्सिलोना से खेलते हुए मेसी का गोल रेशो 0.88 होता है, जबकि अर्जेंटीना से खेलते समय यह 0.50 हो जाता है।


अर्जेंटीना के मुकाबले बार्सिलोना के लिए औसतन ज्यादा गोल करते हैं मेसी












 

बार्सिलोना

अर्जेंटीना

मैच

687

135

जीते

486 (71%)

80 (59%)

हारे

75 (11%)

26 (19%)

गोल

603

68

प्रति मैच गोल

0.88

0.50

असिस्ट

251

40

प्रति मैच असिस्ट

0.37

0.30

 

इसे ऐसे समझें : बार्सिलोना में मेसी का गोल रेशियो 0.88 है। यानी वे जब बार्सिलोना से खेलते हैं तो हर 10 मैचों में औसतन 9 गोल करते हैं। अर्जेंटीना से खेलते हुए उनका गोल रेशो 0.50 है। यानी जब वे अपने देश की टीम से खेलते हैं तो 10 मैचों में औसतन 5 गोल ही कर पाते हैं। इसी तरह मेसी के टीम में शामिल रहते बार्सिलोना का जीत प्रतिशत का 71 और अर्जेंटीना का 59 है। यानी उनके रहते बार्सिलोना 10 मैचों में से 7 जीतता है और अर्जेंटीना 6 जीत पाता है।

 

बार्सिलोना को मेसी ने 34 खिताब दिलाए, अर्जेंटीना उनके रहते केवल एक खिताब जीत पाया 

मेसी ने 2004 में बार्सिलोना की सीनियर टीम में डेब्यू किया था। इन 15 सालों में उन्होंने अपने क्लब को 34 खिताब दिलाए। इनमें 10 ला लीगा, 4 चैंपियंस लीग, 6 कोपा डेल रे जैसे बड़े खिताब शामिल हैं। इसके अलावा उनके रहते बार्सिलोना ने 3 क्लब वर्ल्ड कप, 3 यूरोपियन सुपर कप और 8 स्पेनिश सुपर कप भी जीते। अर्जेंटीना के लिए उन्होंने 2005 में डेब्यू किया था। इन 14 सालों में वे अपने देश को महज एक खिताब दिला सके। 2008 के बीजिंग ओलंपिक में अर्जेंटीना ने गोल्ड मेडल जीता था। इस बीच अर्जेंटीना 4 वर्ल्ड कप और 5 कोपा अमेरिका कप खेले, लेकिन किसी में भी चैम्पियन नहीं बन पाया।

 

2019 में मेसी ने बार्सिलोना को 73% मैचों में जीत दिलाई, अर्जेंटीना 50% मैच ही जीत पाया

इस साल मेसी ने बार्सिलोना के लिए 30 मैचों में 30 गोल किए। यानी औसतन हर मैच में उन्होंने एक गोल किया। इन 30 मैचों में से बार्सिलोना 22 जीता और केवल 2 मैच हारा। यानी 73% मैचों में अर्जेंटीना को जीत हासिल हुई। जबकि अर्जेंटीना के लिए वे 7 मैचों में महज 3 गोल कर पाए, यानी गोल रेशो 0.50 से भी कम रहा। इस साल उनके टीम में रहते जीत का प्रतिशत भी केवल 50 रहा। अर्जेंटीना 3 मैच जीती और 3 हारी।

 

पिछले 5 साल में अर्जेंटीना 3 फाइनल मुकाबले खेला, सभी में हारा

फीफा वर्ल्ड कप 2014 : फाइनल तक के सफर में अर्जेंटीना ने 7 मैच खेले। इनमें 4 में मेसी मैन ऑफ द मैच रहे। टीम के नाम कुल 7 गोल रहे। इनमें से 4 मेसी ने किए, उन्होंने एक गोल में असिस्ट भी किया। लेकिन फाइनल में वे कुछ खास नहीं कर सके। मेसी ने फाइनल में 4 अटेम्प्ट किए लेकिन वे टारगेट चूक गए, उन्होंने 2 महत्वपूर्ण पास भी दिए, लेकिन उनके साथी खिलाड़ी इन्हें गोल में तब्दील नहीं कर सके। जर्मनी के साथ हुए फाइनल मुकाबले में 90 मिनट तक कोई गोल नहीं हुआ। अतिरिक्त समय भी खत्म हो ही रहा था कि मारियो गोट्जे ने 113वें मिनट में गोल कर जर्मनी को चैम्पियन बना दिया। मेसी अर्जेंटीना को वर्ल्ड कप तो नहीं दिला सके, लेकिन अपने शानदार खेल के चलते टूर्नामेंट का सबसे बड़ा अवॉर्ड गोल्डन बॉल उन्हें ही मिला।

 

कोपा अमेरिका कप 2015 : वर्ल्ड कप के एक साल बाद ही अर्जेंटीना एक और बड़ा खिताब जीतने के करीब पहुंचा। कोपा अमेरिका कप 2015 के सेमीफाइनल में पराग्वे को 6-1 से हराने के बाद अर्जेंटीना की जीत तय भी मानी जा रही थी, लेकिन फाइनल में उसे चिली के खिलाफ हार मिली। फाइनल मुकाबला 120 मिनट तक गोल रहित रहा। इसके बाद हुए पेनाल्टी शूट आउट में अर्जेंटीना को 4-1 से हार मिली। अर्जेंटीना की ओर से मेसी ही पेनल्टी को गोल में कन्वर्ट कर पाए, हिगुइन और बेनेगा पेनाल्टी चूके और अर्जेंटीना के हाथ से खिताब चला गया। 

 

कोपा अमेरिका सेंटेनारियो कप 2016 : कोपा अमेरिका के 100 साल पूरे होने पर हुए इस टूर्नामेंट में एक बार फिर अर्जेंटीना फाइनल में पहुंचा। फाइनल में उसके सामने एक बार फिर चिली था। इस बार भी 120 मिनट तक मैच में एक भी गोल नहीं हो पाया। मैच पेनाल्टी शूटआउट में पहुंचा और यहां मेसी पेनाल्टी चूक गए। अर्जेंटीना 2-4 से पेनल्टी शूट आउट हार गया। इस हार के बाद ही मेसी ने अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल से संन्यास का भी एलान कर दिया था। हालांकि अपने देशवासियों और पुराने खिलाड़ियों के निवेदन के बाद उन्होंने फिर टीम में वापसी की।



Source link

Recommended For You

About the Author: Vivek Jaiswal